IAS अफ़सर बन कर भी मोनिका यादव जीती हैं सिंपल लाइफ, लोगों की हर समस्या में खड़ी रहती हैं साथ

630

किसी ने सही कहा है आसमान का रास्ता जमीन से होकर ही जाता है. जो लोग जमीन से जुड़ कर रहते हैं वही लोग निरंतर सफलता की राह पर बढ़ते हैं. जहाँ आजकल लोग पश्चिमी सभ्यता को अपनाने की होड़ में लगे रहते हैं, दरअसल आज हम आपको राजस्थान की एक ऐसी ही लेडी आईएएस के बारे में बताने वाले हैं जो आईएएस बनने के बाद भी अपनी संस्कृति और परंपराओंं से जुड़ी रहती हैं. और इसमें गर्व भी महसूस करती हैं.

आपको बता दें इस महिला आईएएस का नाम मोनिका यादव है जो राजस्थान राज्य के सीकर जिले के श्रीमाधोपुर तहसील के गाँव लिसाड़िया की निवासी हैं. दरअसल सोशल मीडिया पर इनकी फोटोज बहुत ही वायरल होती दिख रही है जिनमें आईएएस मोनिका राजस्थान की पारंपरिक वेश भूषा में, माथे पर बिंदी लगाए हुए और गोद में एक नवजात शिशु लिए दिखाई दे रही हैं.

हालाँकि आईएएस अधिकारी मोनिका यादव जो 2014 बैच की आईएएस ऑफिसर हैं. यूपीएससी में 403वीं रैंक प्राप्त कर सफलता प्राप्त की थी. वहीं मोनिका का जन्म गाँव में होने के कारण इनका पालन-पोषण भी पूरी तरह से ग्रामीण परिवेश में हुआ है. बता दें इनके पिता का नाम हरफूल सिंह यादव है, जो एक सीनियर आईआरएस के पद पर है. अपने पिता से ही प्रेरणा लेकर मोनिका ने भी सिविल सर्विस में जाने का फ़ैसला किया था और अपने पहले ही प्रयास में इस परीक्षा में 403वीं रैंक प्राप्त कर सफलता पा ली.

दरअसल फिलहाल मोनिका तिर्वा क्षेत्र की डीएसपी के पद पर हैं. मोनिका आपने क्षेत्र के लोगों की शिकायतों को सुनने और उनके समस्याओं को समाधान करने के लिए मशहूर हैं. मोनिका के इसी काम के लिए इनको प्रदेश में प्रथम स्थान मिला है. मोनिका की शादी भी आईएएस ऑफिसर सुशील यादव से हुई जो वर्तमान समय में राज समंद में एसडीएम के पद पर है. जब मोनिका ने अपनी बेटी को जन्म दिया उसी समय की फोटो लोगों के बीच काफ़ी वायरल हो गई थी.

जाहिर है कि बेटी के साथ-साथ उन्होंने अपनी नौकरी की जिम्मेदारियों को भी अच्छे से निभाया है. मोनिका हमेशा अपनी संस्कृति और अपनी परंपराओं से जुड़ कर रहती हैं. आईएएस मोनिका की जो फोटो वायरल हुई है उसके साथ कैप्शन में यह लिखा हुआ है कि “आईएएस मोनिका यादव गाँव लिसाड़िया श्रीमाधोपुर की लाडली. सादगी भरा चित्र पहली बार किसी आईएएस का. जय हिंद जय भारत.” वहीं लोग आईएएस मोनिका की बेटी के जन्म पर उन्हें शुभकामनाएँ भी देने लगे हैं.

वहीं इस तरह आईएएस मोनिका अपनी संस्कृति और परंपराओं का पालन करते हुए एक सच्चा देशभक्त होने का फर्ज़ निभा रही है. उनकी इस देशभक्ति से पूरे देश को इन पर गर्व महसूस होता है. ये उन लोगो के लिए मिसाल बन चुकी है जो किसी बड़े स्थान पर जाते ही पश्चिमी सभ्यता और आराम में मशगूल हो जाते है.